शादी करने के फायदे- Shadi Karne Ke Fayde

क्या आप शादी कर चुके हैं, या फीर शादी करने वाले हैं, अगर दोनों में से एक भी हैं  तो इस पोस्ट को घ्यान से पढ़े आप जान जाओगे, शादी करने के फायदे- (Shadi Karne Ke Fayde) क्या हैं, क्या हमें शादी करनी चाहिए या फीर signal रहना चाहिए.

इस पोस्ट में हम जानेगे.

1. शादी करने के फायदे.

2. शादी ना करने के नुकशान.

3. शादी करने की सही उम्र क्या हैं.

Shadi Karne Ke Fayde

मेरा नाम गुप्त हैं, मैं 25 वर्ष का होने वाला हूँ, मेरी शादी 21 वर्ष की उम्र में हो गई थी, मैं गाँव का रहने वाला हूँ, लेकिन मैं एक सुन्दर शहर में रहता हूँ, मैं एक oil & Gas Company में HR Manager का काम करता हूँ.

आज इस पोस्ट में हम बात करंगे - शादी करने के फायदे- (Shadi Karne Ke Fayde) क्या हैं, क्या आपको मैं शादी करने की सलाह देता हूँ या नही इस पोस्ट को ध्यान से पढ़े. मैं जो भी इस पोस्ट मैं लिख रहा हूँ वो सिर्फ मेरे जीवन से जुड़ा हुआ हैं मैं अपने जीवन के बारे में और मेरी शादी करने के बारे में हैं- मैं किसी और को टारगेट नही कर रहा हूँ, मैं शादी करके मैं क्या सोचता हूँ बस यही आपके साथ शेयर कर रहा हूँ. और हाँ Dear Wife दिल पे ना ले.

Shadi Karne Ke Fayde


शादी ना करने के नुकशान.

जब मैं class 10 में पढ़ रहा था तब मैं अपनी जवानी को महसूस कर रहा था, मेरे शरीर में कुछ अलग तरह का मन बना रहता था, मुझे पता नही ऐसा क्यों हो रहा था, लेकिन हो रहा था बस हो ही रहा था मुझे कुछ समझ में नही आ रहा था, class 10 से पहले मैं बहुत ही ज्यादा खेल खेलता था, धीरे - धीरे समय के साथ मेरी जवानी भी पढ़ रही थी, मेरा खेलो में मन नही लग रहा था, ज्यादा लोगो से मिलना कम हो गया, मैं ज्यादा टीवी देखता था वो भी कम हो गया. बस, मैं अकेले बैठा रहता था.

मैं ज्यादा इसलिए बैठा रहता था क्योकि मेरा मन सेक्स सेक्स सेक्स की तरफ बढ़ रहा था, मैं हर बार यही सोचता था और सेक्स विडियो को देखता था,  मैं सेक्स विडियो नही देखना चाहता था, लेकिन फीर भी क्या करू सिर्फ वही मन में रहता था, सही बात करू तो मेरी भी गलती नही थी ये तो प्रकर्ति का नियम हैं कुछ भी कर लो, जो प्रकर्ति ने हमें दिया हैं उसे कोई भी नही बदल सकता.

लेकिन एक दिन ऐसा आया जिसने मुझे अपने आप को धक्का दिया, जून महीने में 10th का result आने वाला था, और मैंने कुछ पढ़ा भी नही, मुझे बहुत ज्यादा घबराहट होने लगी कि कही मैं फ़ैल ना हो जाऊ, ये भी डर बैठ गया था कि अगर मैं फ़ैल हो गया तो लोग क्या सोचेंगे, मेरी बे-इज्जती हो जाएगी कि ये लड़का 10th भी पास नही कर पाया और फ़ैल हो गया.

और 2 जून को result आया और मैं सच में फ़ैल हो गया, मैं बहुत रोया, मुझे बहुत तखलीफ़ हुई, मैंने 2 दिन खाना भी नही खाया, 10 दिन तक तो मैं घर में ही बैठा रहा, मैं बहुत ही अन्दर ही अन्दर बहुत ही टूट गया था, मेरे पापा ने मुझे डाटा और कहा अगर पढ़ेगा नही तो फ़ैल ही होगा, इसमे रोने वाली बात कहा हैं, चल कोई बात नही, दुबारा पढाई करो, फीर क्या स्कूल में दुबारा 10th में join किया, 10 दिन तक तो class से बाहर भी नही गया, ये सोच कर कि जो मेरे साथ पढ़ रहे थे वो मेरा मजाक ना उड़ाये. वो अब 11th में हैं और मैं 10th में.

धीरे-धीरे समय के साथ मन खुलता गया - फ़ैल के डर से मेरा सेक्स सेक्स सेक्स  से कब मन उठ गया पता भी नही चला, मैं सिर्फ पढाई पे ही ध्यान दे रहा था, मैंने खूब मेहनत की और आखिर मैंने 10th पास किया.11th में मुझे कोई टेंसन नही था कि और मैंने पढाई पे इतना ध्यान देना छोड़ दिया, फीर भी मैंने कैसे भी करके 11th पास किया. class 12th में मुझे और दिक्कत आने लगी मैं हर बार लड़कीयों की तरफ आकर्षित हो रहा था, लेकिन मैं बहुत ही शर्मीला था मैंने कभी भी किसी लड़की से बात तक नही किया, मेरे शर्मीलेपन की वजह से मैंने आज तक पाप नही किया - मतलब कि मैंने अपने पत्नी के सिवा किसी के साथ सेक्स सेक्स सेक्स नही किया, मैं भगवान का सुक्रिया करना चाहता हूँ कि मैंने ये गलती नही की.

समय के साथ मैंने 12th पास किया, मैं और भी ज्यादा जवान होने लगा था, class 12th के बाद मेरा पढाई में मन नही लग रहा था मेरा मन हर बार सेक्स सेक्स सेक्स  की तरफ बढ़ रहा था मेरा किसी भी काम में मन नही लग रहा था, मैं हर बार मेरा मन कही और लगाने के लिए मोबाइल गेम खेलता था, गेम खेलते -खलते मेरे मन में व्ही बात आ जाती थी, मैं बहुत उदास होने लग गया था कि ये क्या हो रहा हैं मेरे साथ क्या ये प्रॉब्लम हर किसी के साथ होती हैं क्या? 

मैंने किसी को ये बात नही बताया कि मेरा मन हर सेकंड सेक्स सेक्स सेक्स  कि तरफ बढ़ रहा हैं मैं क्या करू? अगर मैं किसी को ये बात बोलता तो भी मुझे किसी लड़की का एड्रेस देते, इसलिए मैंने किसी को बोला भी नही मैंने अपने आपको control करना चुरू कर दिया, और मैं सोचने लगा कि मेरे मन को शांत कैसे करू बिना कुछ गलत काम किया, फीर मेरे मन मैं एक आईडिया आया और ये सोचा कि अगर मैं किसी काम को करू तो मेरा मन सेक्स सेक्स सेक्स  कि  तरफ़ से मन भटक सकता हैं. 

मेरा सोचना बिलकुल सही हुआ मैंने 4 साल एक distributer के साथ काम किया जल्दी उठता था और लेट सोता था जिससे मेरे मन में बुरे ख्याल नही आवे, दिन भर काम की वजह से मैं थक जाता था और खाना खाकर सो जाता था. ये आईडिया मेरे लिए बहुत कारगर रहा इस बिच मैंने कुछ पैसे कमा लिए जनवरी 2019 मैं मैंने शादी कर ली.


2 साल हद से ज्यादा एन्जॉय किया, अब भी  सेक्स सेक्स सेक्स   करके मैंने अपने मन पे काबू पाया और आज मेरे एक लड़की हैं अब मेरा मन सेक्स सेक्स सेक्स  की तरफ मन नही जाता हैं, अब मैं कोई भी काम कर सकता हूँ कही भी जा सकता हूँ, मेरा मन बिलकुल खुला रहता हैं जब भी मन में सेक्स के प्रति  कुछ ख्याल आता हैं तो मैं अपनी पत्नी के साथ एन्जॉय कर लेता हूँ. एक बात मैं आपको बता दूँ मैं अपने शरीर पे काबू पाया, किसी लड़की को परेशान नही किया और ना ही कभी किसी लड़की को बिना मतलब बतलाया, थैंक्यू भगवान ऐसी बुध्धी देने के लिए. 

Shadi Karne Ke Fayde

शादी करने के फायदे- Shadi Karne Ke Fayde.

शादी करने के फायदे जानकर आप हेरान रह जाओगे, 

  1. शादी करने से अकेलापन दूर हो जाता हैं.
  2. शादी करने से लाइफ में किसी भी कार्य को करने में आसानी हो जाती हैं.
  3. शादी करने से पति शारीरिक कमजोरी दूर हो जाती हैं.
  4. शादी करने से किसी को बुरी नजरो से देखना बंद हो जाता हैं क्योकि शादी से पति पत्नी यौन क्रिया करके अपने आप को संतुष्ट समझ लेते हैं. जिससे उनके मन में किसी और का ख्याल तक नही आता. पति - पत्नी अपने काम में ही व्यस्त रहते हैं.
  5. शादी करने से पति-पत्नी हमेशा खुश रहते हैं और एक दुसरे का हमेशा ख्याल रखते हैं.
  6. शादी करना इसलिए भी जरूरी होता हैं क्योकि यौन इच्छाए प्राकृतिक होती हैं, इनसे बचना मतलब प्रकृति के बनाए नियमो का उल्लघन करना हैं, इंसान ना चाहते हुए भी यौन क्रियाओ की तरफ आकर्षित होता हैं, चाहे पुरुष हो या महिला अनगिनत इंसानों के साथ यौन क्रियाओ को अंजाम देने से बचने के लिए भी शादी एक सही फैसला माना जाता हैं.
  7. कोई व्यक्ति अकेला न रह सके इसलिए महिला और पुरुष को बनाया गया हैं ताकि वे शादी के बंधन में बंधकर अपने जीवन की डोर को आगे खिंच सके, एक लम्बा जीवन बिताने के लिए शादी महत्वपूर्ण होती हैं.
  8. प्रक्रति के बनाए नियम के अनुसार महिला को पुरुष के और पुरुष को महिला के प्यार की जरुरत होती हैं बिना प्यार के वह कई बार मानसिक बीमारियों का शिकार हो जाती हैं इसलिए हेल्थ के लिहाज से भी शादी जरूरी हैं.
  9. अपने जीवन में बदलाव लाने और सेटल होने एक नए जीवन की शुरुआत करने के लिए शादी जरूरी हैं अपने ख़ुशी और गम बाटने वह थकान दूर करने फ्रेश होने के लिए जीवन साथी की जरुरत होती हैं, जो बिना किसी शिकायत और बहाने के आपकी बातो को बहुत ही प्यार से सुने.
  10. हम जीवन में कई चीजे अक्सर दुसरो से सीखते हैं आप एक ही छत के निचे जिसके साथ लम्बे समय तक रहते हैं उससे सबसे ज्यादा सीखते हैं, शादी करना इसलिए जरूरी हैं क्योकि व्यक्ति जीवन भर लापरवाह न बना रहे और उसे अपनी जिम्मेदारियों का एहसास हो सके.
  11. एक हेल्दी शादी शुदा रिश्ता महिला और पुरुष दोनों के जीवन को बदल देता हैं, विवाहित लोगो को डिप्रेशन, चिंता, तनाव, और अन्य मानसिक समस्याए बहुत कम होती हैं, इनमे सेक्स की भी महत्वपूर्ण भूमिका रहती हैं, शादी शुदा लोग सिंगल लोगो की अपेक्षा नकारात्मकता से बहुत कम ग्रसित होते हैं और अपने पाट्नर के सहयोग से जीवन में प्रगति करते हैं.

इतने सारे शादी करने के फायदे होने के बाद आपका विचार शादी को लेकर क्या हैं हमें कमेंट में बताए.

शादी कब करना चाहिए ?

भारत सरकार के निर्देनुसार शादी की सही उम्रः कम से कम लड़की की 18 वर्ष और पुरुष की 21 वर्ष होनी चाहिए, इस उम्रः में कोई भी लड़का - लड़की शादी के बंधन में बंध सकते हैं, अगर कोई परिवार इस उम्रः से कम में शादी करवाते हैं, तो कानूनन सजा सुनाई जा सकती हैं साथ ही साथ जुर्माना भी भरना पड़ सकता हैं.

मेरे अनुसार शादी तब तक नही करनी चाहिए, जब तक आप के पास आय का एक अच्छा स्रोत ना हों, जब आय का अच्छा स्रोत होता हैं तो जिन्दगी जीने में बहुत ही मज़ा आता हैं, आपका लाइफ पार्टनर आपसे हर जो भी उम्मीद रखता हैं उसे अआप पूरी कर सके.

अत: शादी जीवन का अहम फैसला हैं, इस बंधन में बंधने से पहले 100 बार सोचे, सोचना यह हैं कि आप जिससे शादी करने वाले हैं वो आपके काबिल हैं या नही? 

शादी के बंधन में बंधने से पहले अपने लाइफ पार्टनर के बारे में जाने, उंदर से और बाहर से भी, शादी जल्द बाज़ी में शादी करना मौत के मुह में जाने जैसा हैं, अपने पार्टनर के बारे सब कुछ जानने के बाद ही अपने जीवन की नई शुरुआत करे.

  1. यह भी जरूर जाने उसके दोस्त कैसे हैं?
  2. वो कैसे रहता हैं?
  3. उसका खाना -पीना कैसा हैं? 
  4. क्या उसका कोई एक्स फ्रेंड तो नही हैं?
  5. क्या उसमे अच्छे संस्कार हैं?
  6. कितना पढाई किया हुआ हैं?
  7. लोगो से बात करने का तरीका और अंदाज कैसा हैं?
  8. क्या लोगो में भेद-भाव की भी सोच हैं?
  9. अपने माता-पिता के बारे में क्या सोचते हैं?
  10. क्या परिवार के बिच रहना पसंद हैं?
  11. क्या कभी -कभी कुछ भी adjust करने की हिम्मत हैं?

बहुत से सवाल जो अभी भी बाकी हैं अगर आपके भी मन में कोई सवाल हैं तो कमेंट बॉक्स में जरूर लिखे, और हाँ ये पोस्ट आपको कैसा लगा हमें जरूर बताये, धन्यवाद.


ये भी जरूर पढ़े.
 


0/Post a Comment/Comments

और नया पुराने