20+ देवर भाभी का रिश्ता शायरी | Devar Bhabhi ki Shayari 2021

 "देवर भाभी का रिश्ता शायरी" {Devar Bhabhi ki Shayari 2021} देवर भाभी के रिश्ते को कोई नही समझ सकता, देवर भाभी का रिश्ता भाई बहन जैसा होता हैं, इस रिश्ते में कई लडाइयां भी होती हैं लेकिन भाभी और देवर के रिश्ते में प्यार भी होता हैं. कुछ देवर अपनी भाभी को माँ के सम्मान रखते हैं वो भाभी को भाभीमाँ कहकर भी पुकारते हैं क्योकि उनकी भाभी माँ के सम्मान ख्याल रखती हैं जैसे कि टाइम पर खाना पीना, कपडे थोना, और भी छोटा मोटा काम जो भाभी अपने देवर के काम करती हैं जो काम माँ करती अपने बेटे के लिए वोही काम भाभी करती हैं इसलिए भाभी को भाभीमाँ कहना कोई गलत नही हैं.

लेकिन कुछ चु** देवर होते हैं जो अपनी भाभीमाँ को गलत नज़रो से दिखते हैं उन्हें गलत समझे हैं ऐसे देवर से दूर रहना ही बेहतर होता हैं, क्योकि ऐसे देवर पति-पत्नी के रिश्तो को तोड़ सकते हैं. 

पति-पत्नी के रिश्तो में अविश्वास पैदा कर सकते हैं, पति और पत्नी का रिश्ता सिर्फ और सिर्फ विश्वास पर ही चलता हैं.

कुछ चु** देवर के लिए शायरी. जो देवर अपनी भाभी को भाभीमाँ मानते हैं उनके लिए कोई भी शायरी नही बनी हैं.

Devar Bhabhi ki Shayari

देवर भाभी का रिश्ता शायरी {Devar Bhabhi ki Shayari}

{1} घर का खर्च चलाता हैं भाई मेरा, भाभी तुम हमारी दुश्मनी करवाओगे.

Ghar ka Kharch Chalata hai Bhai mera, Bhabhi Tum Hamari Dushmani Karwaoge.



{2} चले जाते हो किधर जरा मुड़ के तो देखो, मैं भी तुम्हारे लिए बैठी हूँ जरा मुस्कराके देखो.
देवर भाभी का रिश्ता शायरी


Chale Jate ho kidhar Jara Mud ke To dekho, main bhi Tumhare liye Baithi hun jara Muskho to dekho.



{3} ये फैशन वैशन छोड़ दे देवर तन में राख लगा ले, वन में करो तपस्या किसी साधू को गुरु बना ले.
Devar Bhabhi ki Shayari

Ye Faishan Vaishan Chod de Devar, Tan me raakh laga de, Van me kro Tapsya kisi saadhu ko Guru Bana lo.


{4} हमसे रूठा ना करो भईया की लुगाई, तेरे लिए भी लाऊंगा बाज़ार से मलाई.
देवर भाभी का रिश्ता


Humse Rudhaa Naa Karo Bhaiya Kee Lugaai, Tere liye bhi Launga Bazaar Se Malaai.


{5} भाभी हमारी मोरनी भईया मोर हैं, भाभी हमारी चांदनी भईया चकोर हैं, ताहिर करता है तारीफ़ भाभी के हुस्न की भाभी के हुस्न का हर शु शोर ही शोर हैं.

Bhabhi Hmaari Morni Bhaiya mor hain, Bhabhi Hamari Chandni Bhaiya Chakor hain, Taahir karta hain Taarif bhabhi ke husn kee bhabhi ke husn ka har Shu Shor hi Shor hai


{6} पूरा जवान हो गया देख लो आजमा के, किसी गोरी सी लड़की को ले आओ पटाके.
देवर भाभी का रिश्ता शायरी  Devar Bhabhi ki Shayari

Pura Jawan ho gya dekh lo aajma ke, Kisi Gori see Ladgi ko le aao Patake.


{7} क्यो हमेशा हमसे तकरार करती हो, पिटवा के भईया से बदनाम करती हो.

kyo Hamesha humse Takrar Karti ho, Pitwa ke Bhaiya se Badnam Karti ho.


{8} सहर्दय हूँ घायलों के प्रति मगर घायल नही हूँ, दुधिया सी चांदनी के पाँव की पायल नही हूँ.

SaHarday hun Ghayalo ke Prati Ghayal Nhi hun, Dushiya see Chandni ke Paanv kee Payal Nhi Hun.


{9} चले आते हो मुझसे छेड़खानी करने के लिए, हमेशा करते हो मखौल अपना रंग ज़माने के लिए.

Chale aate ho mujhse Chedkhani Karne ke liye, Hamesha karte ho Mkhol Apna Rang Janame ke liye.


{10} सब चीज हाजिर हैं आपके वास्ते, क्यों होती हो नाराज़ खुदा के वास्ते.
Sab Chiz Hajir hai Aapke Vaste, Kyo Hoti ho Naraz khuda ke Vaste

Sab Chiz Hajir hai Aapke Vaste, Kyo Hoti ho Naraz khuda ke Vaste


{11} सच्ची ही कहती हूँ तुमसे जरा न बोलूंगी कोलेज से जब घर आओगे दिल तेरा बहला दूंगी.

Sachchi Hi Kahti hun Tumse Jara N Bolungi Collage se jab Ghar aaoge tera Dil Bahla Dungi.


{12} भाभी तेरा कहना कभी ना तालूँगा, कहोगी पानी भरने को तो जल्दी लादुंगा.

Bhabhi Tera Kahna Kabhi Naa Taalunga, Kahogi Paani Bharne ko To jaldi Laadunga.


{13} चांदनी रात हैं डर की क्या बात हैं इसलिए  घबराऊ जब देवर मेरे साथ हैं.

Chandni Raat Hain Dar Kee Kya Baat hai Esliye Ghabrau jab Devar mere Sath Hain.


{14} Bhabhi meri Fuljhadi Bhaiya Mera Anaar Hain Bhukh Lagi hai Jor se karde Khana Taiyar



{15} सैर करनी हैं तो भाभी गुलशन की करनी चाहिए, भाभी तेरे वास्ते भईया को बुलाना चाहिए.


{16} बुरा ना मानो तो भाभी तेरे बालो को चूम लूँ, गोरे-गोरे गालो के मुख को चूम लूँ.

Bura naa maano to bhabhi tere Baalo Ko Chum Lun, Gore Gore Gaalo le Mukh ko Chum Lun


{17} बेधुंगी बाते करते  हुए तुम्हे शर्म नही आती, भिजवा दूँ पोलिस थाने मन में ऐसी आती.

Bedhungi Baate hoarte hue Tumhe Sharma nhi aati, Bhijwa Dun Police Thane Man me esi Aati.


{18} फीर शिकायत की हैं भईया से आपने, पिटवा के मुझे रात में खाना दिया न आपने.

Feer Shikayat kee hai Bhaiya se Aapne, Pitwake mujhe Raat me khana diya n Aaapne


{19} मेरी हालत पर न तरस खाया तुमने देवर, तुमने अपने भईया की नजरो से गिराया देवर.

Meri Halat par N Taras Khaya Tumne Devar, Tumnse Apne Bhaiya Kee Nazro se Giraya Devar.


{20} फूल तो फूल होता हैं तू फल से बढकर हैं, जो देख ले एक बार तुझे कहे आसमान की परी हैं.
Fool To Fool Hota hain Tu Fal Se Badkar hain, Jo dekh le ek baar Tujhe Kahe Aasmaan Kee pari hain.

Fool To Fool Hota hain Tu Fal Se Badkar hain, Jo dekh le ek baar Tujhe Kahe Aasmaan Kee pari hain.


{21} चुप-चुप खड़े हो जरूर कोई बात हैं भईया तेरे जाये यही मेरी आस हैं.

Chup-Chup Khade ho Jaroor koi baat hain Bhaiya Tere Jaye Yahi meri Aas hain.


{22} सूखे तेरे होठ जरा लाली तो लगालो, कोई नही घर पर तो हमको बुलालो.

Sukhe Tere Hoth Jara Lali To Lagao, Koi Nhi ghar par to Humko Bulalo.


{23} भईया घर नही इसलिए बैठी हो उदास, भईया से ना कहना भाभी पूरी कर दूँ आस.

Bhaiya Ghar Nhi Esliye Baithi ho Udaas, Bhaiya se Naa kahna Bhabhi Puri Kar dun Aas.


देवर भाभी का रिश्ता शायरी {Devar Bhabhi ki Shayari} आपको कैसी लगी अगर अच्छे लगे तो लाइक शेयर कमेंट जरूर करे,

ऐसे ही "देवर भाभी का रिश्ता" शायरी चाहिए तो हमें कमेंट में बताये 

ये भी पढ़े:

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने